किसी भी पार्टी में आंतरिक स्वतंत्रता नहीं, भ्रष्ट तंत्र का यही बीज है: जी. विश्वनाथन

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *