बेटियों को पढ़ाने के लिए छोड़ दिया गाँव

दर्शिता चौबे, आईएनएन/ग्वालियर, @Infodeaofficial 

शिक्षित लोग शिक्षा का मूल्य समझतें हैं | शहरी इलाकों में धन संपदा से परिपूर्ण लोगों का बिना भेद भाव करे अपने बच्चों को पढ़ाना आम बात है | परन्तु विषम परिस्थितियों से लड़ते हुए सारी सुविधाओं का त्याग कर अपने बच्चों के उज्जवल भविष्य का निर्माण करने का सामर्थ्य रखने वाली ममता कम ही देखने को मिलती है|
आज हम आपको कुछ ऐसे लोगों से परिचित कराना चाहते हैं जिन्होने अपनी बेटियों को पढाने के लिए अपना गाँव छोड़ दिया | ग्वालियर के डी बी सिटी इलाके में झोपड़ी में रहने वाली गुड्डीबाई , रामधकेली , मिथलेश और फूलनदेवी नईपुरा गाँव की रहने वाली हैं | बहुत ही कम उम्र में तीनो का विवाह हो गया | गाँव में मर्द खेती बाड़ी करते थे और महिलाएं घरों में रह बच्चों को पालतीं थी | चारों का जीवन गाँव की आम महिलाओं की भाँती बीत रहा था किन्तु उनको जीवन की सार्थकता का अभाव सदेव महसूस होता था |  
 जैसे उनका जीवन चुल्ह-चौके तक सीमित था , वे नहीं चाहतीं थी कि उनकी बेटियों को भी यही जीवन मिलें | इन चारों की यही सोच इनको ख़ास बनाती है | चारो ने ठान लिया कि वे अपनी बेटियों को पढ़ाएंगी | लेकिन इस मार्ग में अर्चने बहुत थी | गाँव में कम ही लड़कियां पढ़ती थी और जो गिनी चुनी गाँव के इकलौते सरकारी विद्यालय जाती भी थी तो वहां शिक्षक मौजूद नहीं होते थे | सरकार द्वारा लाई हुयी शिक्षा से सम्बंधित योजनाओं की सफलता के दावों की सत्यता आम लोगों के संघर्ष की कहानियाँ प्रकट करती हैं |
अनपढ़ होते हुए भी शिक्षा के मूल्य को समझने वाली इन महिलाओं ने हार नहीं मानी | उन्होंने गाँव छोड़ने का फैसला किया | शुरुआत में चारों के इस फैसले से उनके पतियों को आपत्ती थी , पर महिलाओं की ज़िद के आगे वे झुक गए | चारों परिवारों ने गाँव में अपना घर और काम छोड़ दिया तथा ग्वालियर शहर की तरफ रवाना हो गए | यहाँ जगह ढूंढ उन्होंने रहने के लिए मिट्टी के घर बनाएं |
आय के लिए  किसी ने बेलदारी का काम चुना तो किसी ने कारीगरी करने का निर्णय लिया | अपनी बेटियों का दाखिला एक प्राइवेट स्कूल में कराया और साथ ही उनका ट्यूशन भी लगवा दिया | बेटियों की पढ़ाई का खर्चा इतना हो जाता है कि वे ना तो पेट भर खा पातें है न मन के कपडे पहन पाते हैं |
अपनी बेटियों को शिक्षित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं | बेटियों को भी अपने माता – पिता के संघर्ष और त्याग का आभास इतनी कम उम्र में हो चुका है | कोई पढ़ लिख कर अफसर बनना चाहती है तो कोई डॉक्टर |
पिछड़े हुए भारत की ये बढ़ती सोच एक मिसाल है | सभी सुविधाओं के होते हुए भी जो लोग बेटियों को पढ़ाने के पक्ष में नहीं हैं उनको इन महिलाओं से प्रेरणा लेनी चाहिए |

 

  1. Casino Kya Hota Hai
  2. Casino Houseboats
  3. Star111 Casino
  4. Casino Park Mysore
  5. Strike Casino By Big Daddy Photos
  6. 9bet
  7. Tiger Exch247
  8. Laserbook247
  9. Bet Bhai9
  10. Tiger Exch247.com

Comments

2 responses to “बेटियों को पढ़ाने के लिए छोड़ दिया गाँव”

  1. Ankita Avatar
    Ankita

    Waaao again😊😊 it’s being a proud moment and I feel very proud to you❤️❤️ well done darshi❤️✌️❤️ keep going and do motivate the people ✌️✌️👏👏👏

  2. Arpit Agrawal Avatar
    Arpit Agrawal

    Huge respect 👏🏻

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *